Auraiya: जिला मजिस्ट्रेट ने 12 और अपराधियों को किया जिला बदर

अपराध उत्तर प्रदेश औरैया प्रदेश

औरैया, (विकास अवस्थी )।  जिलाधिकारी  सुनील कुमार वर्मा ने  जिले में पंचायत चुनाव को देखते हुये लोक व्यवस्था, शांति, सुरक्षा व्यवस्था एवं कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए  विभिन्न अपराधों में लिप्त जिले के 12 और अपराधियों को जिला बदर कर दिया।

यह  भी पढ़ें –26 महीने बाद मुख्तार का बांदा जेल फिर बना ठिकाना

जिला मजिस्ट्रेट  ने  गुण्डा एक्ट के तहत कार्रवाई करते हुए राघवेंद्र उर्फ बर्री निवासी जरूहौलिया थाना -औरैया, अब्दुल रज्जाक उर्फ भूरी निवासी जमुही थाना- दिबियापुर, योगेश कुमार उर्फ विंदा निवासी किशनपुर हाल पता सहायल रोड दिबियापुर थाना -दिबियापुर, आरिफ निवासी कखावतू थाना- औरैया, हिमांशु उर्फ प्रबल प्रताप निवासी बाकरपुर थाना-औरैया, विपिन निवासी नांदपुर थाना- फफूंद , दीपक उर्फ बंटी निवासी दहगांव थाना -औरैया, उमेश चंद्र यादव निवासी शेखूपुर आधार सिंह थाना -अजीतमल, अयोध्या प्रसाद निवासी फिरोज नगर थाना- अजीतमल, काजू ठाकुर उर्फ विजय सिंह निवासी फतेहपुर लख्मी थाना-अछल्दा, अंकित उर्फ रवि राज निवासी पूर्वा धन्ना थाना-बिधूना, सोनू उर्फ आसिफ निवासी हसनपुर चांद खां अछल्दा रोड थाना-अछल्दा इन सभी को 6माह के लिए जिला औरैया एवं उसकी सीमाओं निष्कासित करने के आदेश दिए गए है.

जिला बदर सपा  से जिला पंचायत सदस्य प्रत्याशी  को  कड़ी सुरक्षा में कोर्ट में पेश किया

जिला बदर सपा के भाग्यनगर चतुर्थ से जिला पंचायत सदस्य प्रत्याशी धर्मेंद्र यादव को कड़ी सुरक्षा में दिबियापुर थाने से ले आया गया औरैया न्यायालय।जबकि मंगलवार को एसओजी टीम ने गिरफ्तार किया था। मंगलवार से ही थाने के बाहर समर्थकों का हुजूम उमड़ रहा था , वही आज वुधवार सुबह समर्थकों जमे रहे। क्योकि समर्थको को एनकाउंटर का डर था।
मुख्तार अंसारी की तरह कई थानों की पुलिस के घेरे में धर्मेंद्र यादव थे। थाना दिबियापुर में उत्तर प्रदेश गिरोह बंद समाज विरोधी क्रिया कलाप निवारण अधिनियम एवं गुंडा अधिनियम के तहत रिपोर्ट दर्ज की गई है। इसके अलावा अन्य दो लोगों जिनमें प्रभात सिंह उर्फ टीटू यादव पुत्र शिव शंकर व शिवम यादव उर्फ मामू निवासी पुत्र सतीश चंद्र निवासी ग्राम ककुरिया थाना दिबियापुर के खिलाफ भी उत्तर प्रदेश गिरोहबंद समाज विरोधी क्रिया कलाप निवारण अधिनियम के तहत रिपोर्ट पंजीकृत की गई है।

यह  भी पढ़ें – पंचायत चुनाव : किसानो की उदासीनता ने बढ़ाई प्रत्याशियों की बेचैनी